सस्ता टोकन का दावा करें
Follow On Google News

G20 देशों की बैठक बदल सकती है क्रिप्टो का भविष्य

महत्वपूर्ण बिंदु
  • बेंगलुरू में G20 देशों के वित्त मंत्रियों और सेंट्रल बैंक्स के गवर्नरों की पहली बैठक भारत की अध्यक्षता में हो रही है। जिसमें क्रिप्टो करंसी रेगुलेशन को लेकर कुछ बड़े फैसले हो सकते हैं।
  • G20 नेशन की इस बैठक के बाद क्रिप्टो करंसी का वैश्विक रूप से भविष्य तय होने की उम्मीद हैं। क्योंकि भारतीय वित्त मंत्री एक संयुक्त SOP निर्माण की बात कर चुकी हैं।
25-Feb-2023 By: Sourabh Agrawal
G20 देशों की बैठक बद

G20 नेशन के वित्त मंत्रियों और सेंट्रल बैंक्स के गवर्नरों की दो दिवसीय बैठक पर पूरी दुनिया के क्रिप्टो निवेशकों की नजर है, क्योंकि इस बैठक के बाद मे वैश्विक रूप से रेगुलेशन को लेकर कोई निर्णय हो सकता है। ऐसे में यह बैठक क्रिप्टो करंसी का भविष्य बदल सकती हैं।

वर्तमान समय में दुनिया में हर एक क्रिप्टो करंसी निवेशक यह जानना चाहता है कि दुनिया के बड़े देश जब एक साथ एक मंच पर आयेंगे तो वे क्रिप्टो से जुड़ा क्या फैसला लेंगे। क्योंकि वर्तमान समय में क्रिप्टो रेगुलेशन को लेकर लगातार सभी देशों की ओर से बातें हो रही हैं। ऐसे में G20 नेशन के वित्त मंत्रियों और सेंट्रल बैंक्स के गवर्नरों की दो दिवसीय बैठक क्रिप्टो के भविष्य का निर्धारण कर सकती है। भारत कि अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में भारतीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी। 

24 और 25 फरवरी को होने वाली यह बैठक भारत ही नहीं अपितु दुनिया भर के क्रिप्टो करंसी निवेशकों के लिए बहुत ख़ास होने वाली है, क्योंकि इस बैठक के बाद वैश्विक रूप से क्रिप्टो रेगुलेशन को लेकर कोई ऐसा कानून बन सकता है, जो वैश्विक पटल पर सभी देशों द्वारा मान्य होगा। लेकिन जानकारी के लिए आपको बता दे कि इस बैठक में भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास भी भाग लेंगे, जो शुरूआती दिनों से ही क्रिप्टो करंसी के विरोधी रहे हैं। वे तो भारत में क्रिप्टो करंसी पर पूरी तरह बैन लगा चुके हैं। 

ऐसे में यह देखना होगा कि शक्तिकांत दास G20 देशों के वित्त मंत्रियों और सेंट्रल बैंक्स के गवर्नरों की बैठक में क्या प्रतिक्रिया देते हैं। जो भी हो G20 देशों की इस बैठक पर दुनिया भर के क्रिप्टो निवेशकों का भविष्य टिका हुआ है। गौरतलब है कि G20 विकसित और विकासिल देशों का समूह हैं, जिसमें भारत, अमेरिका, जापान, ब्रिटेन जैसे बड़े देश शामिल हैं।

यह भी पढ़िए : बढ़ता जा रहा है Crypto Education का क्रेज

WHAT'S YOUR OPINION?