सस्ता टोकन का दावा करें रिजर्व का प्रमाण

कॉइन बर्निंग क्या है और यह क्रिप्टो करेंसी को कैसे प्रभावित करता है?

महत्वपूर्ण बिंदु
  • कॉइन बर्निंग, क्रिप्टो करेंसी
21-Jul-2022 Pankaj Gupta
कॉइन बर्निंग क्या है और यह क्रिप्टो करेंसी को कैसे प्रभावित करता है?


कॉइन बर्निंग का मतलब कुछ टोकन को स्थायी रूप से संचलन से हटाने के लिए उन्हें एक वॉलेट में ट्रांसफर करना है 

जिससे उन्हें कभी भी निकला नहीं जा सकता है। यह कहा जा सकता है कि यह टोकन को ख़त्म कर देता है क्योंकि टोकन का अब उपयोग नहीं किया जा सकता है क्योंकि वॉलेट नेटवर्क से जुड़ा नहीं है। जिस पते पर टोकन भेजे जाते हैं उसे बर्नर एड्रेस भी कहा जाता है। क्योकि बर्नर एड्रेस में private key नहीं होती है इसलिए  टोकन हमेशा के लिए ख़त्म हो जाते हैं।

कॉइंस के मूल्य को बढ़ाने के लिए कई कॉइंस और टोकन बर्न किये जाते हैं। टोकन बर्निंग का उपयोग Binance,  Ethereum और Terra जैसे कॉइंस द्वारा किया जाता है। हाल ही में, Terra (LUNA) में इस महीने की शुरुआत में  LUNA के बड़े पैमाने पर बर्न होने के कारण एक दुर्घटना हुई थी, क्योंकि यह स्टेबल कॉइन TerraUSD (UST) से जुड़ा था। दोनों टोकन के गिरने के कारण, TerraUSD (UST) के लिए अपने $ 1 मूल्य को वापस पाने का एकमात्र विकल्प Terra (LUNA) टोकन को बड़े पैमाने पर बर्न करना था, जिसने लिंक किए गए स्टेबल कॉइन के मूल्य को बढ़ाया।

ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स की मांग क्रिप्टो करेंसी मार्केट के एक महत्वपूर्ण हिस्से को संचालित करती है, और सप्लाई-डिमांड समीकरण स्विंग्स के लिए संवेदनशील है। क्रिप्टो बर्निंग का उपयोग मुख्य रूप से मार्केट में चल रही करंसीज की मात्रा को कम करने के लिए किया जाता है, जैसे-जैसे मांग बढ़ती है, कॉइंस का मूल्य भी बढ़ता है। हालांकि, कॉइंस को बर्न करने से कभी-कभी ही केवल कुछ स्थितियों में ही कॉइंस की कीमत में सुधार हो सकता है।

क्रिप्टो करेंसी को बर्न करना निवेशकों को रिवॉर्ड देने का एक और तरीका है। जब क्रिप्टो करेंसी की कीमत बढ़ती है, तो अधिक लोग इसे खरीदने का फैसला करते हैं, जिससे डिमांड पैदा होती है और कीमत और भी ज्यादा बढ़ जाती है।

कॉइन बर्निंग के उपयोग

क्रिप्टो डेवलपर्स मार्केट में उपयोग में आने वाली करंसीज के मूल्य को बढ़ाने के लिए कॉइंस को बर्न करते हैं। यह बहुत कुछ वैसा ही है जैसा तेल उद्योग में होता है। जब एक बैरल कच्चे तेल की कीमत कम होती है क्योकि सप्लाय ज्यादा है और डिमांड कम है, तो तेल उत्पादक देश कीमतें बढ़ाने के लिए उत्पादन कम कर देते हैं। जब कॉइंस बर्न किये जाते हैं तो वही सप्लाय और डिमांड मैकेनिज्म काम करता है।

प्रूफ ऑफ़ बर्न (POB)

Blockchain ट्रांसक्शन्स को जोड़ने और वेरिफाई करने के लिए "प्रूफ ऑफ़ बर्न" का उपयोग कर सकता है। इसका उपयोग धोखाधड़ी को रोकने और यह तय करने के लिए किया जाता है कि केवल लीगल ट्रांसक्शन ही किए जाएं। यह दो सबसे ज्यादा उपयोग किये जाने वाले एल्गोरिदम proof of work और proof of stake की जगह उपयोग किया जाने वाला कॉन्सेंसूस एल्गोरिदम है | 

प्रूफ ऑफ बर्न एल्गोरिथम सामान्य रूप से proof of work एल्गोरिथम के समान है लेकिन कम ऊर्जा का उपयोग करता है। ब्लॉक वेलिडेशन प्रोसेस के लिए, PoB- आधारित नेटवर्क को कम्प्यूटेशनल रिसोर्सेज या माइनिंग इक्विपमेंट की जरुरत नहीं पड़ती है |

ट्रांसक्शन्स के नए ब्लॉक को माइन करने के लिए, प्रूफ-ऑफ-बर्न क्रिप्टो करेंसी माइनर्स को अपने टोकन को बर्न करने की जरुरत होती है। जब वे अधिक टोकन बर्न करते हैं तो वे अधिक माईन कर सकते हैं।

मूल्य बढ़ाने के लिए बर्न करना 

मार्केट में शेयरों की संख्या को कम करने के लिए, कंपनियां अपने शेयरों को खरीदती हैं। आमतौर पर, ऐसा व्यवसाय के फाइनेंशियल परफॉरमेंस और शेयर की कीमत को बढ़ाने के लिए किया जाता है। दुर्भाग्य से, कभी-कभी इसका विपरीत प्रभाव पड़ जाता है |

सामान उद्देश्य के लिए ही टोकन बर्न किये जाते है | कॉइन बर्न करने वाली कंपनियां कॉइंस की सप्लाय को कम करके अपनी होल्डिंग के मूल्य को बनाए रखने या बढ़ाने की कोशिश करती हैं, इसलिए कुछ डेवलपर्स जानबूझकर कॉइंस बर्न करते हैं।

माइनिंग बैलेंस को बनाए रखने के लिए बर्न का उपयोग करना

PoB सिस्टम में एक मैकेनिज्म होता है जो इन्वेस्टर्स और नए यूज़र के बीच संतुलन बनाए रखने के लिए क्रिप्टो करेंसी टोकन को समय-समय पर बर्न करने की सुविधा प्रदान करता है ताकि पुराने इन्वेस्टर्स को मिलने वाले अनुचित लाभ को रोका जा सके |

प्रोजेक्ट की अवधि

कॉइन की वैल्यू को बढ़ाना किसी भी प्रोजेक्ट का पहला मुद्दा होता है क्योकि यह कॉइंस के उपयोग को बढ़ता है, इसलिए कम्पनियाँ कॉइंस बर्न करती है |

सप्लाई और डिमांड की थ्योरी

सामान्य इकॉनमी के अनुसार, जब तक सर्कुलेशन में कमी होगी और डिमांड में कोई बदलाव नहीं होगा, तब तक मूल्य में वृद्धि होगी। जैसा कि ऊपर दिए गए उदाहरण में दिया गया है, कॉइंस के बर्न करने से टोकन का मूल्य बढ़ जाता है। कॉइन बर्निंग इसी तरह से नेटवर्क के डिफ्लेशन में योगदान देता है।


क्या बर्न करने से कॉइंस का मूल्य प्रभावित होता है?

बाजार पर प्रभाव डालने के लिए, बड़ी संख्या में क्रिप्टो करेंसी को बर्न करना चाहिए|

इसके अलावा, यदि कोई करंसी अपनी सीमित आपूर्ति के करीब पहुंच रही है, तो डेवलपर्स को बर्न करने के बारे में सतर्क रहना चाहिए। कॉइंस को बर्न करने से उनकी सप्लाय कम हो जाती है, जिससे प्रत्येक इकाई का मूल्य बढ़ जाता है। हालांकि हो सकता है कि आपको तुरंत कोई बदलाव नजर न आए, लेकिन इससे आपका निवेश आपकी सोच से अधिक मूल्य का हो सकता है| इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि बर्न होने पर टोकन की कीमत तुरंत बढ़ जाएगी।

कॉइंस को बर्न करने का कार्य क्रिप्टो करेंसी के मूल्य को निवेश के रूप में नहीं बताता है। क्रिप्टो करेंसी टोकन बर्नर अच्छे और बुरे दोनों प्रकार के होते हैं। यदि आप जानते हैं कि यह कैसे काम करता है, तो आप उन क्रिप्टो करेंसी को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं जो कॉइन-बर्निंग का उपयोग करती हैं।

Coin Gabbar यह पता लगाने के लिए एक बढ़िया स्थान है कि नई और सबसे लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी कहां हैं। इसके शानदार UI/UX के कारण बहुत ही आसानी से यूज़र क्रिप्टो-एसेट्स और उनसे जुडी जानकारी को आसानी से समझ सकता है। यह क्रिप्टो दुनिया में नए ट्रेंडिंग और हॉट टॉपिक्स का एक सोर्स है, जो क्रिप्टो फैम को blockchain, Metaverse, नए अप-राइजिंग हॉटशॉट टोकन, और विभिन्न प्लेटफॉर्म और एक्सचेंजों के अपडेट्स पर जागरूक और अप-टू-डेट रखता है। यह विभिन्न क्रिप्टो कॉइंस, टोकन और अन्य वस्तुओं के बारे में जानने और समझने के लिए एक स्थान के रूप में कार्य करता है।

अपने नए फोरम के साथ, यूज़र अब क्रिप्टो से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के जवाब खोज सकते हैं, जहां विशेषज्ञ हर दिन इन्हे हल करने और जवाब देने की कोशिश करते हैं।



व्हाट यूअर ओपिनियन
सम्बंधित खबर
संबंधित ब्लॉग
`