सस्ता टोकन का दावा करें रिजर्व का प्रमाण

भारत की ऑयल कंपनी HPCL ने ब्लॉकचेन को अपनाया, बढ़ाएगा ट्रांसपरेंसी

महत्वपूर्ण बिंदु
  • भारत में एक प्रमुख सरकारी ऑयल कंपनी HPCL ने अपने परचेस ऑर्डर सिस्टम की दक्षता बढ़ाने के लिए ब्लॉकचेन-संचालित पहल शुरू की है।
  • कंपनी ने इस कदम में भारतीय Web3 स्टार्टअप Zupple Labs के साथ साझेदारी की है।
  • HPCL का कदम न केवल कंपनी के लिए बल्कि पूरी ऑयल और गैस इंडस्ट्री के लिए भी एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित होगा।
19-Oct-2023 By: Shailja Joshi
भारत की ऑयल कंपनी HP

भारत की ऑयल कंपनी HPCL ने परचेस आर्डर के लिए ब्लॉकचेन को अपनाया

भारत में एक प्रमुख सरकारी ऑयल कंपनी, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL) ने अपने परचेस ऑर्डर सिस्टम की दक्षता बढ़ाने और जालसाजी के खिलाफ सुरक्षा के लिए ब्लॉकचेन-संचालित पहल शुरू की है। कंपनी ने इस कदम में भारतीय Web3 स्टार्टअप Zupple Labs के साथ साझेदारी की है, जो NEAR ब्लॉकचेन पर तुरंत वेरिफिकेशन करने के लिए LegitDoc का उपयोग करेगा। ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी को अपनाने का HPCL का यह निर्णय जालसाजी से निपटने के लिए लिया गया है। कंपनी ने अक्टूबर के अंत तक इस सुविधा को जनता और विक्रेताओं के लिए लेने की घोषणा की है।  दरअसल पिछले पांच सालों में, HPCL ने लगभग $52 बिलियन के परचेस ऑर्डर्स जारी किए हैं। यह हाई-वैल्यू परचेस ऑर्डर्स महत्वपूर्ण है। इसमें थर्ड पार्टी परचेस आर्डर पर कंपनी को परेशानी का सामना करना पड़ा था जिसके चलते ही कम्पनी ने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी को अपनाने का निर्णय लिया है। LegitDoc के इंटीग्रेशन के बाद परचेस ऑर्डर्स सुरक्षित और बड़ी आसानी से किये जा सकेंगे। इसकी मदद से एक साधारण क्लिक के साथ ऑर्डर को तुरंत और बिना किसी रूकावट के वेरीफाई किया जा सकेगा। अधिक पारदर्शी और कुशल परचेस आर्डर सिस्टम की ओर HPCL का कदम न केवल कंपनी के लिए बल्कि पूरी ऑयल और गैस इंडस्ट्री के लिए भी एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित होगा। 

Zupple Labs के साथ HPCL की पार्टनरशिप और परचेस ऑर्डर्स को सुरक्षित और वेरीफाई करने के लिए  LegitDoc का इम्प्लीमेंटेशन पारदर्शिता और दक्षता के प्रति कंपनी की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग करके, HPCL अपने हाई-वैल्यू  वाले परचेस ऑर्डर्स की सुरक्षा को मजबूत कर रहा है और विक्रेताओं के लिए अधिक सुव्यवस्थित प्रक्रिया प्रदान कर रहा है। 

भारत में बढ़ रहा है ब्लॉकचैन एडॉप्शन

HPCL का यह कदम भारत में सरकारी और प्रशासनिक उपयोग में बढ़ते ब्लॉकचैन एडॉप्शन को दर्शाता है। इससे पहले, महाराष्ट्र के गढ़चिरौली प्रशासन ने 2022 में 65,000 आदिवासी जाति प्रमाण पत्र जारी करने के लिए LegitDoc को अपनाया था। प्रमाण पत्र जारी करने के अलावा, इस तकनीक का उपयोग महाराष्ट्र में 2021 में COVID-19 वैक्सीन प्रमाण पत्र बनाने के लिए भी किया गया था। इसके अलावा, महाराष्ट्र सरकार ने 2022 में 100,000 से अधिक डिग्री प्रमाणपत्र जारी करने के लिए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया था।

यह भी पढिये : दिमाग को पढ़कर रियल टाइम इमेज बनाएगा Meta का नया AI

व्हाट यूअर ओपिनियन
सम्बंधित खबर
संबंधित ब्लॉग
`