सस्ता टोकन का दावा करें रिजर्व का प्रमाण

Binance पर रेगुलेटर्स की सख्ती, US की डूबा न दे नैया

महत्वपूर्ण बिंदु
  • Binance दुनिया का सबसे बड़ा क्रिप्टो एक्सचेंज है, जो वर्तमान में यूएस कमोडिटी फ्यूचर्स ट्रेडिंग कमिशन (CFTC) के मुकदमे का समाना कर रहा है।
  • US रेगुलेटर्स द्वारा वर्तमान में Binance पर बनाया जा रहा दबाव, अमेरिका को क्रिप्टो हब बनने के सपने को पूरा करने से दूर कर देगा है। क्योंकि Binance दुनिया का सबसे बड़ा क्रिप्टो एक्सचेंज होने के साथ, अपना विस्तार वैश्विक रूप से अन्य देशों तक करता जा रहा है।
Binance पर रेगुलेटर्

Binance यूएस कमोडिटी फ्यूचर्स ट्रेडिंग कमिशन के मुक़दमे का सामना करने के साथ-साथ अमेरिका में अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है। वर्तमान में Binance के मार्केट शेयर में 16% की का कमी आई है। लेकिन वैश्विक स्तर पर Binance को अमेरिकी रेगुलेटर्स के इस कदम से कोई फर्क नहीं पड़ेगा।  

अमेरिका के रेगुलेटर्स द्वारा लगातार दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज Binance को निशाना बनाया जा रहा है। अमेरिका की सरकार लगातार अपनी क्रिप्टो के विरुद्ध सख्त निति से यह संकेत दे रही है कि आने वाले समय में भी वह क्रिप्टो विरोधी गतिविधियाँ जारी रखेंगी। लेकिन विशेषज्ञ मानते है कि यूएस कमोडिटी फ्यूचर्स ट्रेडिंग कमिशन (CFTC) के मुकदमे से Binance को कोई फर्क नहीं पड़ेगा और वह इस कार्रवाई से आसानी से बाहर हो जाएगा। हालांकि Binance का मार्केट शेयर 16% घटा है, लेकिन यह मार्केट शेयर CFTC की कार्रवाई से नहीं घटा है, बल्कि Binance द्वारा zero-fee trading को रोकने का परिणाम है। वहीं अमेरिकी रेगुलेटर्स जैसे SEC और CFTC का लगातार क्रिप्टो एक्सचेंज फर्म्स को निशाना बनाना एक क्रिप्टो विरोधी रणनीति प्रतीत होता है, जिससे अगर किसी को नुकसान होगा तो वह केवल और केवल अमेरिका को ही होगा।

वर्तमान में अमेरिका ही एक ऐसा देश है जहां पर सबसे ज्यादा Cryptocurrency निवेशक है, इतना है नहीं Elon Musk और Jack Dorsey जैसे बड़े क्रिप्टो निवेशक भी अमेरिका से ही आते है। ऐसे में क्रिप्टो करंसी मार्केट और किसी एक्सचेंज को अमेरिका से ख़त्म करना नामुमकिन सा ही नजर आता है। रही बात Binance की तो, वह अपनी सेवाओं के विस्तार के लिए अमेरिका के साथ साथ, जापान, सिंगापुर, UAE आदि देशों में अपनी यूनिट स्थापित कर चुका हैं। यहां तक कि अमेरिका में भी उसकी एक अलग इकाई है, जो Binance.US के नाम से जानी जाती है। अगर अमेरिकी रेगुलेटर पूरी ताकत से भी Binance के खिलाफ कार्रवाई करने लगे तो, अंत में यही होगा कि Binance अपना US से कारोबार बंद कर देगा, लेकिन बीते दिनो जारी हुए परिणाम भी इस बात के विपरीत नजर आते है। 

जहां ब्लॉकचैन एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म Kaiko ने जानकारी देते हुए कहा था कि इस तिमाही में जब Binance लगातार अमेरिकी रेगुलेटर्स के निशाने पर है, तब Binance.US का मार्केट शेयर 8% से 24% पर पहुँचा है। अर्थात लगातार कार्रवाई के बावजूद भी अमेरिकी क्रिप्टो निवेशकों का Binance के प्रति भरोसा और भी ज्यादा बढ़ा है। अमेरिका अगर इसी तरह Binance और उसके जैसे अन्य क्रिप्टो करंसी एक्सचेंज पर सख्ती दिखाता रहा तो, वह दिन दूर नहीं है, जहां अन्य देश अमेरिका को पछाड़ कर आगे बढ़ जाएंगे और अमेरिका केवल मुहँ ही देखता रहा जाएगा। अमेरिका में वर्तमान में क्रिप्टो एक्सचेंज फर्म्स का मार्केट शेयर के बढ़ने की एक वजह है, आम जनता में अमेरिकी बैंकिंग प्रणाली पर विश्वास का कम होना है। दरअसल अमेरिका के तीन बड़े बैंकों के पतन के बाद आम जनता का भरोसा बैंको से उठ गया है और वे अब निवेश के नए विकल्पों के रूप में Cryptocurrency को अपना रहे है।

यह भी पढ़िए : Twitter से Elon Musk ने उड़ाई चिड़िया, DOGE को बनाया Logo

व्हाट यूअर ओपिनियन
सम्बंधित खबर
संबंधित ब्लॉग
`